‘ Vehicle Ramming ’ आतंकवाद की दुनिया का आधुनिक हथियार लखीमपुर खीरी में

विश्व भर में इस तरह के हमलों को आतंकवाद से जोड़ कर देखा जाता है। 2010 में इस्राइल के सख्त सर्विलेंस के कारण जब आतंकी सफल नहीं हो पा रहे थे तब फिलिस्तीन समर्थित आतंकी संगठनों द्वारा इस Vehicle Ramming तरीके का ईजाद किया गया था। Continue reading ‘ Vehicle Ramming ’ आतंकवाद की दुनिया का आधुनिक हथियार लखीमपुर खीरी में

अपने अस्तित्व को बचाने के जद्दोजहद में अररिया जिले के आत्मनिर्भर ग्रामवासी

नदी के कटाव में चार बार अपना घर गंवा चुके अजय कुमार दास कहते हैं ” यह केवल एक सड़क का मुद्दा बिल्कुल भी नहीं है, यह हमारे अस्तित्व, विस्थापन, रोजगार के लिए पलायन का मुद्दा है।”

Continue reading अपने अस्तित्व को बचाने के जद्दोजहद में अररिया जिले के आत्मनिर्भर ग्रामवासी

क्या आप जानते हैं जेएनयू वाले फर्जी वीडियो के पीछे स्मृति ईरानी और शिल्पी तिवारी का क्या योगदान था?

क्या गोदी मीडिया और भाजपा नेताओं ने कभी बताया कि उस फर्जी वीडियो के पीछे स्मृति ईरानी की खासम खास शिल्पी तिवारी का हाथ था? रोहित हत्या मामले से बचाने के लिए प्लांट किया गया था! उस वीडियो के फर्जी होने का सत्यापन मार्च 2016 को हो चुका था।
Continue reading क्या आप जानते हैं जेएनयू वाले फर्जी वीडियो के पीछे स्मृति ईरानी और शिल्पी तिवारी का क्या योगदान था?

कश्मीर – यहां कातिल भी तुम, मुंसिफ भी तुम

  मुस्लिम लीडरशिप और सेकलारिज्म की कसमें खाने वाले नेताओं के लिए कश्मीर मुद्दा क्यों नहीं है? मुस्लिम लीडरशिप का झंडा थामे दौर रहे नेताओं, सेकलारिज्म की कसमें खाने वाले नेताओं के लिए कश्मीर मुद्दा क्यों नहीं है?पिछले 11 महीने से अनिश्चितताओं की ओर धकेल दिए गए कश्मीरियों की परवाह किसी भारतीयों को नहीं है। एक … Continue reading कश्मीर – यहां कातिल भी तुम, मुंसिफ भी तुम

मैं नास्तिक क्यूँ हुँ “भगत सिंह”

हम आस्तिकों से कुछ प्रश्न करना चाहते हैं। यदि आपका विश्वास है कि एक सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापक और सर्वज्ञानी ईश्वर है, जिसने विश्व की रचना की, तो कृपा करके मुझे यह बतायें कि उसने यह रचना क्यों की? कष्टों और संतापों से पूर्ण दुनिया – असंख्य दुखों के शाश्वत अनन्त गठबन्धनों से ग्रसित! एक भी व्यक्ति तो पूरी तरह संतृष्ट नही है। कृपया यह न कहें कि यही उसका नियम है। यदि वह किसी नियम से बँधा है तो वह सर्वशक्तिमान नहीं है। वह भी हमारी ही तरह नियमों का दास है। कृपा करके यह भी न कहें कि यह उसका मनोरंजन है। Continue reading मैं नास्तिक क्यूँ हुँ “भगत सिंह”