24 वर्षीय दलित कार्यकर्ता नोदीप कौर की हरियाणा पुलिस द्वारा की गई गिरफ्तारी और यौन हिंसा

12 जनवरी को कुण्डली औद्योगिक क्षेत्र में एक श्रमिक रैली का आयोजन होता है जिसमें बकाया मजदूरी की मांग करने वाले श्रमिकों पर हरियाणा पुलिस द्वारा गोलीबारी किया जाता है, पुलिस का दावा है कि आंदोलनकारी श्रमिक फैक्ट्री मालिकों से जबरन वसूली कर रहे थे। आयोजन में हुए अचानक गोलीबारी से चारो दिशा में भगदड़ होती है जिसमें एक 24 वर्षीय दलित कार्यकर्ता नोदीप कौर को पुलिस द्वारा पकड़ लिया गया और उन्हें बेरहमी से पीटा जाता है। उन्हें पीट रहे सारे पुरुष पुलिस थे। उनमें एक भी महिला पुलिस कर्मी नहीं थी। पुलिस उनके गुप्तांगों को खास निशाना बना कर पीटती है और वहां से कुण्डली पुलिस स्टेशन तक लगभग घसीटते हुए ले जाती है। Continue reading 24 वर्षीय दलित कार्यकर्ता नोदीप कौर की हरियाणा पुलिस द्वारा की गई गिरफ्तारी और यौन हिंसा

पीड़िता की पहचान उजागर करने मे शामिल दो कथित अधिवक्ता सह पत्रकार की संदिग्ध भूमिका क्या ” Quid pro quo ” है?

जिस प्रकार इन खबरों को प्लांट किया गया है वह देखकर लगता है जैसे इस केस के आड़ में सामूहिक बलात्कार के आरोपियों को बचाने की कोशिश की जा रही हो Continue reading पीड़िता की पहचान उजागर करने मे शामिल दो कथित अधिवक्ता सह पत्रकार की संदिग्ध भूमिका क्या ” Quid pro quo ” है?

लाॅक डाउन के नाम पर ऐसी पुलिस बर्बरता जो इंसानियत को झकझोर दे

” एक महिला और बड़ी बहन होने के नाते उन शरीर के साथ हुए अमानवीय कृत्य को खुल कर बता पाना संभव नहीं है। मेरे पापा और भाई के साथ वास्तविक में जो हुआ है वह बात मैं अपनी मां को कभी नहीं बता पाऊंगी” हमें बस न्याय चाहिए ताकि ऐसा किसी के साथ दुबारा ना हो। Continue reading लाॅक डाउन के नाम पर ऐसी पुलिस बर्बरता जो इंसानियत को झकझोर दे